Best Business Ideas in Agriculture Sector in Hindi

444

प्राइमरी स्कूल से ही हम भूगोल में पढ़ते आए हैं कि भारत एक कृषि प्रधान देश है। China, USA, Brazil, France, Mexico जैसे देशों के साथ साथ इंडिया भी दुनिया की top 10 agricultural countries में गिना जाता है. ट्रेडिशनल खेती के साथ साथ ही धीरे धीरे इंडिया में आर्गेनिक खेती की डिमांड भी बढ़ने लगी है और यहां पर उगाई गई चीजें एक्सपोर्ट भी हो रही है। 2020 में इंडियन एग्रीकल्चर मार्केट 55,994 बिलियन रुपय का था जो 2026 तक 1,11,916 बिलियन रुपय का हो जाएगा। इस लिए आज हम आपको Agriculture Sector में Business Ideas के बारेमे बताएँगे जिसे की आप खुदका business कर पाओ.

अगर आप एग्रीकल्चर सेक्टर में अपना बिजनेस जमाना चाहते हैं तो ऐसा नहीं कि आपको खेती ही करनी पड़ेगी। खेती के अलावा भी ऐसे कई सारे business ideas हैं जिनमें आप अपनी किस्मत आजमा सकते हैं. आज आपको जानेगे Business Ideas कि वो कौन सी ऐसी 10 बिजनेस मॉडल है जो काफी तेजी से grow कर रही हैं और जिनमें बिजनेस करना आपको फायदे में रख सकता है।

1. Mushroom Farming:

जब किसी restaurant में जाते हैं तो कुछ vegetarian खाना ऑर्डर करना होता है तो सबसे पहले waiter आपको या तो पनीर या तो मशरूम का कोई आइटम बताता है। अगर आप google पर mushroom की nutrition value उसका पता करेंगे तो आपको मालूम चलेगा कि मटन से भी ज्यादा प्रोटीन मशरूम में पाया जाता है। मशरूम की खेती इंडिया में एक बढ़ता हुआ ट्रेंड है जो 2010 से हर साल 4.3% की रेट से बढ़ता जा रहा है। इंडिया में button mushroom की डिमांड सबसे ज्यादा होती है. इसलिए इंडिया में मशरूम के टोटल प्रॉडक्शन का 73% बटन मशरूम ही उगाया जाता है।

मशरूम की खेती के लिए ना ही आपको हल चलाना होता है और ना ही बहुत सारी जमीन की जरूरत पड़ती है। आप 10 x 10 के छोटे से कमरे में भी mushroom farming की शुरुआत कर सकते हैं। मशरूम की खेती की सबसे अच्छी बात ये है कि ये साल के लगभग 8 महीने उगाया जा सकता है। इंडिया में सबसे अच्छा मौसम होता है मार्च से अक्टूबर का लेकिन इसकी खेती indoor यानी बंद कमरे में होती है तो अगर इसके उगने लायक टेम्प्रेचर को कंट्रोल किया जा सके तो लगभग साल भर ही इसकी खेती पॉसिबल है। अगर मशरूम की खेती के बारे में आपको ज्यादा जानकारी नहीं है तो आप बड़ी आसानी से इसकी ट्रेनिंग ले सकते हैं।

Business Ideas

उड़ीसा, कर्नाटका, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, मध्य प्रदेश, वेस्ट बंगाल, उत्तराखंड और नॉर्थ ईस्ट के सभी राज्य मशरूम उगाने में सबसे आगे हैं। लेकिन इसकी खेती दूसरे राज्यों में भी बढ़ रही है। सिर्फ 10 से 20 हजार रुपए खर्च करके आप मशरूम फार्मिंग की सारी बारीकियां सीख सकते हैं। आप अपने राज्य के नजदीकी एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी में इसकी ट्रेनिंग का पता लगा सकते हैं।

इसके अलावा भी अगर कोई ऐसे फार्मर को आप जानते हैं जो successfully इस प्रोफेशन में आगे बढ़ रहे हैं तो उनसे भी पूरी जानकारी प्रैक्टिकल नॉलेज के साथ हासिल की जा सकती है। अगर कोई भी lead नहीं मिल रही है तो YouTube पर mushroom farming search करने पर आपको ऐसे कई सारे वीडियोज मिल जाएंगे जिनसे आपको कंप्लीट नॉलेज मिल जाएगी तो ये तो हुई mushroom farming की बात. अब बात कहते हैं पोल्ट्री फार्मिंग की.

2. Poultry Farming:

जब हम सबकी लाइफ में सिर्फ DD1 था तब आप सभी ने ‘संडे हो या मंडे रोज खाओ अंडे’ विज्ञापन देखा होगा. अंडे खाना सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। डॉक्टर हो या जिम ट्रेनर। अंडा खाने को जरूर कहते हैं। 2014 में ही इंडियन पॉल्ट्री इंडस्ट्री जिसमें broiler meat और अंडे शामिल हैं वो 2024 तक 4340 बिलियन रुपये तक पहुंच जाएगी। पोल्ट्री फार्मिंग में बिजनेस करने की इसलिए भी सोच सकते हैं क्यूंकि globally egg production में इंडिया 3rd rank पर है और चिकन मीट प्रॉडक्शन में पांचवें नंबर पर। अगर इंडिया में पोल्ट्री फार्मिंग की बात करें तो स्मॉल स्केल पर इसकी शुरुआत 50 हजार से लेकर के डेढ़ लाख रुपये से की जा सकती है।

मीडियम स्केल की फार्मिंग के लिए 3 से 4 लाख रुपये और लार्ज स्केल पर 8 लाख रुपए से काम शुरू हो सकता है। सबसे पहले तो आप फार्मिंग लैंड देखना होगा जहां आप अपनी पोल्ट्री फार्मिंग करेंगे। Business size पर डिपेंड करेगा उसके बाद मुर्गियों को रखने से लेकर उन्हें खुले में चरने तक की फैसिलिटी रखनी होगी। उनकी सिक्योरिटी देखभाल साफ सफाई दाना पानी देने और अंडों को प्रोटेक्ट करने के लिए भी मैनपावर की जरूरत पड़ेगी।

पोल्ट्री मुर्गियों की कौन सी प्रजाति अच्छी होती है जो अंडे और मीट प्रॉडक्शन के लिए बेहतर होती है वैसी दो तीन वराइटी choose करनी होगी। उसके बाद आपको अपने बिजनेस का नाम भी रखना होगा। नजदीकी Animal Husbandry Department से उसका रजिस्ट्रेशन भी करवाना होगा। अगर आपके पास ज्यादा बजट नहीं है तो आपको पैसों की भी जरूरत पड़ सकती है। इसके लिए अगर आपको कोई पार्टनर मिल गया तो ठीक है नहीं तो business load भी आप अप्लाई कर सकते हैं। उन सारी चीजों के साथ आपको अपने फार्म की मार्केटिंग भी करनी होगी और प्रॉडक्ट के लिए होलसेलर और रिटेलर बायर्स भी ढूंढने होंगे।

इन सभी चीजों के साथ साथ अपनी नॉलेज को भी इम्प्रूव करते रहिए जिससे मुर्गियों में कौन सी बीमारियां होती हैं उनका सॉल्यूशन क्या है। बिजनेस को कैसे आगे बढ़ाना है मुर्गी पालने के साथसाथ और कौन कौन से बिजनस को उसी फार्म में किया जा सकता है। दूसरे किसी फार्मा विजिट कर सकते हैं और उनके काम करने के तरीके से सीखना भी अच्छा रहेगा. इसे किसी successful poultry farmer के contact में रखिए। कहते है की इंसान हमेशा अपने एक्सपीरियंस से सबसे ज्यादा सीखता है। इसके साथ अब आगे बात करते हैं फर्टिलाइजर डिस्ट्रिब्यूशन बिजनेस की.

3. Fertilizer Distribution Business:

चाहे कोई प्रफेशनल फार्मिंग करे गार्डनिंग करे या फिर रूफटॉप प्लांटिंग पौधों और फसल की अच्छी ग्रोथ के लिए खाद फर्टिलाइजर और एग्रीकल्चर इक्विपमेंट की जरूरत पड़ती ही है तो ऐसे में फर्टिलाइजर डिस्ट्रिब्यूशन बिजनेस आपके लिए अच्छा ऑप्शन हो सकता है। अगर आप किसी ऐसे एरिया में है जहां पर खेती बहुत ज्यादा होती है या फिर बड़े स्केल पर लोग गार्डनिंग करते हैं तो इस बिजनेस में ग्रो करने के अच्छे मौके बन सकते हैं। इसमें आप रिटेलर या होल सेलर भी बन सकते हैं। बस इतना याद रखिएगा कि फर्टिलाइजर्स का बिजनेस कभी डाउन नहीं होगा क्योंकि बढ़ती आबादी के लिए अनाज की पैदावार बढ़ाने के लिए इनका इस्तेमाल होता ही रहेगा।

अगर ऑर्गेनिक फार्मिंग की बात करें तो भी नैचुरल तरीके से बने खाद भी आप बेच सकते हैं लेकिन इसके लिए लाइसेंस लेने की जरूरत पड़ेगी जो आप अपने राज्य के स्टेट गवर्मेंट से ले सकते हैं। अपनी शॉपिंग डिस्ट्रिब्यूशन खोलने के बाद भी आपको रिसर्च करनी पड़ेगी। मार्केट में किस तरह के फर्टिलाइजर्स डिमांड में हैं और किस तरह की खेती के लिए कौन से कंपोस्ट या फर्टिलाइजर्स लगते हैं. क्योकि जिन्हें इसकी जानकारी नहीं है वो आपसे सलाह लेंगे तो ऐसे में आप इस एक्सपीरियंस स्टाफ को भी काम पे रख सकते हैं।

4. Bee Keeping (मधुमक्खी पालन):

Honey (शहद) एक ऐसी चीज है जो सभी को पसंद आती है। सुबह ब्रेकफस्ट में ब्रेड के साथ खाना हो या फिर दूध मिलाकर इसकी nutritional values के चलते इसे फूड के तौर पर तो खाया ही जाता है। इसके अलावा इसमें औषधीय गुण होने के चलते इसका इस्तेमाल आयुर्वेद और मेडिकल सेक्टर में भी होता है। इसलिए अगर आप मधुमक्खियां पालेंगे तो आप फायदे में रहेंगे। मधुमक्खियां पालने के लिए आपको बहुत ज्यादा जमीन की जरूरत नहीं पड़ेगी। एक छोटे से जमीन के टुकड़े पर अपनी छत पर या बैकयार्ड में आप इन्हें पाल सकते हैं। मधुमक्खियों को पालने के लिए उनका बॉक्स या तो आप बनवा सकते हैं खरीद के भी ला सकते हैं।

Bee keeping के लिए आप किसी ऐसे मौसम को चुनिए जब फूल और फलों के खिलने का सीजन होता है क्योंकि तब मधुमक्खियों को पराग ढूंढने की जरूरत नहीं पड़ेगी और आपको अच्छा प्रोडक्शन भी मिल सकेगा। किसी भी दूसरे एग्रीकल्चर के काम के लिए आपको बीज लाने पड़ते हैं। उसी तरह आपको किसी अच्छी प्रजाति की मधुमक्खियां भी लानी होगी और उनकी एक न्यूक्लियस कॉलोनी बसाने होगी। हर 7 से 10 दिन के अंदर एक बार बॉक्स का इंस्पेक्शन भी करना होगा। ये उम्मीद मत रखिए कि पहले ही साल से आपको बहुत अच्छी प्रोडक्शन मिलेगी।

पहले साल में इस काम को सीखते हुए भी आप आगे बढ़ेंगे तो इतना श्योर है कि दूसरे साल से आप प्रॉफिट कमा सकते हैं। यह जरूर ध्यान रखिएगा कि जहां भी आप इसकी फार्मिंग करेंगे वह आसपास ढेर सारे फूल सब्जियों या फलों के पौधे हो। इसके लिए आप बी बॉक्स के आसपास खुद भी पौधे लगा सकते हैं जिससे आपको भी तरह तरह के फ्रूट्स खाने को मिल जाएंगे। उस काम को शुरू करने से पहले इसकी ट्रेनिंग आप ले लेते हैं तो अब बहुत आगे तक जा सकते हैं।

5. Hydroponic Store:

ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि खेती सिर्फ जमीन पर ही होती है. लेकिन आजकल पानी में खेती करने का ट्रेंड भी बढ़ता ही जा रहा है। इसे Hydroponic technic कहते हैं जिसमें फ्रेश वॉटर की सप्लाई करके ज्यादातर पत्तेदार वेजिटेबल्स को उगाया जाता है। अगर आप इस टेक्नीक में यूज होने वाली चीजों का स्टोर खोलते हैं तो ये एक अच्छा बिजनेस मॉडल बन सकता है। अब सवाल ये भी है कि आप जो भी चीज अफगानियों ने मिट्टी के बदले न्यूट्रिशन कहां से मिलेगी। उसका जवाब है पानी। जी हां इसके लिए पानी में ही जरूरी न्यूट्रिशन सप्लाई किया जाता है जैसे लोग मिट्टी में खाद या कंपोस्ट डालते हैं।

आने वाले दिनों में इस तकनीक से खेती का ट्रेंड और भी बढ़ता जाएगा क्योंकि जमीन महंगी होती जा रही है और मेट्रो सिटीज में तो जमीन के भाव करोड़ों में हैं तो फ्यूचर की सोचकर आप इस बिजनेस में उतर सकते हैं। हैदराबाद के एक कपल sachin और shweta darbarwar जो simply fresh नाम से अपना हाइड्रो पोनी एग्रीकल्चर फार्म चलाते हैं उन्होंने भी सक्सेसफुल बिजनेस के साथ मार्केट से 20 million dollars का fund raise किया है। इससे अब हाइड्रो पोनी एग्रीकल्चर का उज्ज्वल भविष्य सोच सकते हैं।

6. Vermicomposting Organic Fertilizer:

घर के बिरम्दे में पड़े गोबर, पेड़ के पते, या सब्जी के छिलके जब आप जमीन खोद कर दबा देते है तो उन्हें केचुए खाध या compost में बदल देते है. ये एक business model भी है organic farming की बढ़ती demand के चलते केचुए से बने खाध या Verme compost organic fertilizer की demand बहोत ज्यादा बढ़ी है. केचुए इन्हें खलेते है और उनके शरीर से निकला मल खाध में तब्दील हो जाता है. अगर आपके आस पास गोबर, पेड़ के पते, या सब्जी के छिलके की बारमर है तो इस business में आसानी से पैसे कमा सकते है.

7. Biofloc Fish Farming:

अगर आप agriculture industry के बारे में थोड़ी बहोत जानकारी रखते है तो आपने Biofloc Fish Farming के बारेमे जरुर सुना होगा. तालाब में मछली पलने की जगह round shape के बड़े बड़े water tanks में पाली जाती है. तालाब में मछली पालने से ये थोडा कम खर्चीला है और इसमें production भी ज्यादा मिलता है. 4 meters के tank का खर्चा लगबग 30000 से 50000 रुपय होता है. जिसमे से लगबग साल के 1000 से 1200 किलो मछली का उत्पादन हो सकता है. आप अपने capital के हिसाबसे fish tank कम या ज्यादा रख सकते है. इस तकनीक में 24 गंटे electricity की जरुरत पड़ सकती है क्युकी इस तकनीक में पानी के अंदर जो bacteria पलता है.

उसे 24 hours हवा की जरुरत पड़ती है. आप inverter लगा सकते है और अपग अलग temperature में मछली रहती है तो उनके लिए वेसा माहोल भी बनाना पड़ता है. मछली को खिलाने से लेकर उसकी देखभाल और बाकी cost को छोड़ कर अगर एक tank में 500 से 600 मछली है तो 4 months में एक tank से एक महीने में 20 से 25 हजार रुपये कमाए जा सकते है. लेकिन ये कम शुरु करने से पहले पूरी जानकारी ले लीजये या फिर training जरुर ले लेलिज्ये ताकि आप अपनी income बढ़ा सके. आप को ये पता चल जाए की अपनी पूंजी को मुनाफे में केसे बदलना है.

8. Flower Shop:

फूलो का मौसम सदा बहार होता है शादी, birthday party, anniversary function से लेकर पूजा और त्यौहार में भी फूलो की भारी डिमांड रहती है. इसे में अगर आप flower shop खोलते है तो अच्छा मुनाफा कमा सकते है. इसे आप कम investment में भी शुरु कर सकते है. अगर आप फूलो के एक bokeh को अछे से देखेंगे तो उसमे लगभग 8 से 10 अलग अलग फुल और पतिया दिख जायेगी.

किसी बड़े शहर में किसीको फुल देकर great करना एक अच्छा gesture माना जाता है. ये चलन अब छोटे शहेरो में भी बढ़ रहा है. वेसेभी अब online फुल बिकने लगे है तो आपको cutomer दुंद ने की जरुरत नहीं पड़ेगी. साथ की flower shop में gift items रखना आपके business को boost करेगा.

9. Broom Production:

हरबार सफाई पसंद इन्सान घर में दो बार जादू जरुर लगता है इसलिए जाडू बनाने के कम के उतर कर आप पैसा कमा सकते है. इस में नाही ज्यादा investment की या जगह की जरुरत पडेगी. एक या दो कारीगर को काम पर रख कर उनसे जाडू बनवा सकते है और किसी wholesaler या retailer को तयार हुआ सामान supply कर सकते है. जाडू बनाने केलिए जो कचा माल आता है वो उतराखंड, West Bengal, Sikkim जेसे पहाड़ी राज्यों में बहोत उगते है तो वहा से आता है. Normally जाडू 50 या 60 रुपये में बिकती है तो इसमें से मुनाफा निकलना कोई बड़ी बात नहीं है.

10. Dairy Outlet:

Dairy products की demand कभी ख़तम नहीं होगी दूध, घी, पनीर, चीस, दही जेसे dairy products की अगर आप outlet खोलते है तो इसके लिए आपको customers ढूंढने की बिलकुल जरुरत नहीं है. Market में amul या mother dairy जेसे कई सरे लोकल ढेर सारे national या local brands है जिसकी dealership लेकर इस business की शरुअत की जा सकती है.